जॉन एलिया की शायरी | 50 Best Jaun Elia Shayari Quotes Poetry in Hindi

Latest Jaun Elia Shayari in Hindi. Read Best Jaun Alia Quotes in Hindi, Jaun Alia Poetry in Hindi, Jaun Elia Ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी And Share it On Facebook, Instagram And WhatsApp.

jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी

#1 - Top 10 Jaun Elia Shayari in Hindi 2022


उन से वादा तो कर लिया लेकिन

अपनी कम-फ़ुर्सती को भूल गया - जॉन एलिया



दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत

ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


ऐ क़ातिलों के शहर बस इतनी ही अर्ज़ है

मैं हूँ न क़त्ल कोई तमाशा किए बग़ैर - जॉन एलिया



वो मिले तो ये पूछना है मुझे

अब भी हूँ मैं तिरी अमान में क्या

यूँ जो तकता है आसमान को तू

कोई रहता है आसमान में क्या - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


हम जी रहे हैं कोई बहाना किए बग़ैर

उस के बग़ैर उस की तमन्ना किए बग़ैर - जॉन एलिया


#2 - Jaun Alia Quotes in Hindi


में भी बहुत अजीब हूँ इतना अजीब हूँ

की बस खुद को तबाह कर लिया

और मलाल भी नहीं



इक अजब हाल है कि अब उस को

याद करना भी बेवफ़ाई है - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


कौन से शौक़ किस हवस का नहीं

ये दिल है मेरी जान जो तेरे बस का नहीं - जॉन एलिया



कैसे कहें कि तुझ को भी हम से है वास्ता कोई

तू ने तो हम से आज तक कोई गिला नहीं किया - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


उस गली ने ये सुन के सब्र किया

की जाने वाले यहाँ के थे ही नहीं - जॉन एलिया


#3 - Jaun Alia Poetry in Hindi


जिसे गुजारा न जा सकें

हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है। - जॉन एलिया



कितने ऐश से रहते होंगे न जाने कितने इतराते होंगे

जाने कैसे लोग वो होंगे जो उनको को भाते होंगे - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


क्या तकल्लुफ़ करें ये कहने में

जो भी ख़ुश है हम उस से जलते हैं - जॉन एलिया



नहीं दुनिया को जब परवाह हमारी

तो फिर दुनिया की परवाह क्यूँ करें हम - जॉन एलिया


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


मैं ने हर बार तुझ से मिलते वक़्त

तुझ से मिलने की आरज़ू की है

तेरे जाने के बाद भी मैं ने

तेरी ख़ुशबू से गुफ़्तुगू की है - जॉन एलिया


#4 - Jaun Elia Ghazal


लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,

पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,

उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,

और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।



अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,

ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,

अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,

इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​

महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,

जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।



हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,

जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,

उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,

मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,

यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।


#5 - जॉन एलिया के मशहूर शेर


​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,

​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,

​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​

​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।



आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो

ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।


jaun elia shayari in hindi, jaun alia quotes in hindi, jaun alia poetry in hindi, jaun elia ghazal, जॉन एलिया के मशहूर शेर, जॉन एलिया गजल, जॉन एलिया कविता कोश, जौन एलिया शायरी इन हिंदी, जॉन एलिया दर्द शायरी, जॉन एलिया शेरो शायरी


अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,

वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,

मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,

मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।



अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,

ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,

ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।


-


उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो

धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है


#6 - जॉन एलिया गजल


मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को

समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे



मैं पर्बतों से लड़ता रहा और चंद लोग

गीली ज़मीन खोद के फ़रहाद हो गए


-


न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा

हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा



मिरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे

मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले


-


शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए

ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए


#7 - जॉन एलिया कविता कोश


घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया

घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है



एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो


-


हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे

कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते



ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे

नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो


-


ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन

दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो


#8 - जौन एलिया शायरी इन हिंदी


वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा

मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया



दोस्ती जब किसी से की जाए

दुश्मनों की भी राय ली जाए


-


कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए

चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है



सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे

जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे


-


शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम

आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे


#9 - जॉन एलिया दर्द शायरी


मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया

इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए



बोतलें खोल कर तो पी बरसों

आज दिल खोल कर भी पी जाए


-


बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए

मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए



मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता

यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी


-


रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है

चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है


#10 - जॉन एलिया शेरो शायरी


नए किरदार आते जा रहे हैं

मगर नाटक पुराना चल रहा है



बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर

जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ


-


मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,

इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।



रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं

रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है


-


मेरी बाँहों में बहकने की सज़ा भी सुन ले

अब बहुत देर में आज़ाद करूँगा तुझ को


Related Posts :

Thanks For Reading जॉन एलिया की शायरी | 50 Best Jaun Elia Shayari Quotes Poetry in Hindi. Please Check Daily New Updates On Devisinh Sodha Blog For Get Fresh Hindi Shayari, WhatsApp Status, Hindi Quotes, Festival Quotes, Hindi Suvichar, Hindi Paheliyan, Book Summaries in Hindi And Interesting Stuff.

No comments:

Post a Comment