[10 Best] Ravidas Ke Dohe With Meaning in Hindi With HD Images

Top Ravidas Ke Dohe, Pad And Poems in Hindi With Meaning : सतगुरु रविदास जी भारत के उन चुनिंदा महापुरुषों में से एक हैं जिन्होंने अपने रूहानी वचनों से सारे संसार को एकता, भाईचारा पर जोर दिया। रविदास जी की अनूप महिमा को देख कई राजे और रानियां इनकी शरण में आकर भक्ति मार्ग से जुड़े। जीवन भर समाज में फैली कुरीति जैसे जात-पात के अंत के लिए काम किया।

ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी

रविदास के सर्वश्रेष्ठ दोहे अर्थ सहित हिन्दी मे ( फोटोस के साथ )


- 1 -


जाति-जाति में जाति हैं, जो केतन के पात,

रैदास मनुष ना जुड़ सके जब तक जाति न जात


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : जिस प्रकार केले के तने को छीला तो पत्ते के नीचे पत्ता, फिर पत्ते के नीचे पत्ता और अंत में कुछ नही निकलता, लेकिन पूरा पेड़ खत्म हो जाता है. ठीक उसी तरह इंसानों को भी जातियों में बांट दिया गया है, जातियों के विभाजन से इंसान तो अलग-अलग बंट ही जाते हैं, अंत में इंसान खत्म भी हो जाते हैं, लेकिन यह जाति खत्म नही होती.


- 2 -


रविदास जन्म के कारनै, होत न कोउ नीच

नकर कूं नीच करि डारी है, ओछे करम की कीच


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : कोई भी व्यक्ति किसी जाति में जन्म के कारण नीचा या छोटा नहीं होता है, आदमी अपने कर्मों के कारण नीचा होता है.


- 3 -


हरि-सा हीरा छांड कै, करै आन की आस

ते नर जमपुर जाहिंगे, सत भाषै रविदास


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : हीरे से बहुमूल्य हैं हरि. यानी जो लोग ईश्वर को छोड़कर अन्य चीजों की आशा करते हैं उन्हें नर्क जाना ही पड़ता है.


- 4 -


कृस्न, करीम, राम, हरि, राघव, जब लग एक न पेखा

वेद कतेब कुरान, पुरानन, सहज एक नहिं देखा


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : राम, कृष्ण, हरि, ईश्वर, करीम, राघव सब एक ही परमेश्वर के अलग-अलग नाम हैं. वेद, कुरान, पुराण आदि सभी ग्रंथों में एक ही ईश्वर की बात करते हैं, और सभी ईश्वर की भक्ति के लिए सदाचार का पाठ पढ़ाते हैं.


- 5 -


मन ही पूजा मन ही धूप,

मन ही सेऊं सहज स्वरूप


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : निर्मल मन में ही ईश्वर वास करते हैं, यदि उस मन में किसी के प्रति बैर भाव नहीं है, कोई लालच या द्वेष नहीं है तो ऐसा मन ही भगवान का मंदिर है, दीपक है और धूप है. ऐसे मन में ही ईश्वर निवास करते हैं.


- 6 -


करम बंधन में बन्ध रहियो, फल की ना तज्जियो आस

कर्म मानुष का धर्म है, सत् भाखै रविदास


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : आदमी को हमेशा कर्म करते रहना चाहिए, कभी भी कर्म के बदले मिलने वाले फल की आशा नही छोड़नी चाहिए, क्‍योंकि कर्म करना मनुष्य का धर्म है तो फल पाना हमारा सौभाग्य.


- 7 -


मन चंगा तो कठौती में गंगा


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : जिस व्यक्ति का मन पवित्र होता है, उसके बुलाने पर मां गंगा भी एक कठौती (चमड़ा भिगोने के लिए पानी से भरे पात्र) में भी आ जाती हैं. 


- 8 -


जा देखे घिन उपजै, नरक कुंड में बास

प्रेम भगति सों ऊधरे, प्रगटत जन रैदास


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : जिस रविदास को देखने से लोगों को घृणा आती थी, जिनके रहने का स्थान नर्क-कुंड के समान था, ऐसे रविदास का ईश्वर की भक्ति में लीन हो जाना, ऐसा ही है जैसे मनुष्य के रूप में दोबारा से उत्पत्ति हुई हो.


- 9 -


कह रैदास तेरी भगति दूरि है, भाग बड़े सो पावै

तजि अभिमान मेटि आपा पर, पिपिलक हवै चुनि खावै


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : ईश्वर की भक्ति बड़े भाग्य से प्राप्त होती है. यदि आदमी में थोड़ा सा भी अभिमान नहीं है तो उसका जीवन सफल होना निश्चित है. ठीक वैसे ही जैसे एक विशाल शरीर वाला हाथी शक्कर के दानों को नहीं बीन सकता, लेकिन एक तुच्छ सी दिखने वाली चींटी शक्कर के दानों को आसानी से बीन सकती है.


- 10 -


ब्राह्मण मत पूजिए जो होवे गुणहीन,

पूजिए चरण चंडाल के जो होने गुण प्रवीण


ravidas ke dohe, ravidas ki sakhi, ravidas ke pad, ravidas ke dohe on life, ravidas ke dohe on love, ravidas ke dohe on friendship, ravidas ke dohe on guru, ravidas ke dohe on death, रविदास के दोहे, रविदास के पद, रविदास की साखी


अर्थ : किसी व्यक्ति को सिर्फ इसलिए नहीं पूजना चाहिए क्योंकि वह किसी ऊंचे कुल में जन्मा है. यदि उस व्यक्ति में योग्य गुण नहीं हैं तो उसे नहीं पूजना चाहिए, उसकी जगह अगर कोई व्यक्ति गुणवान है तो उसका सम्मान करना चाहिए, भले ही वह कथित नीची जाति से हो.


Related Posts :

Thanks For Reading 10 Best Ravidas Ke Dohe With Meaning in Hindi With HD Images. Please Check Daily New Updates On DevisinhSodha.com For Best Interesting Articles in Hindi.

No comments:

Post a Comment

Trending Posts
Recent Posts
Catagories
X