199+ भीड़ में अकेला जिंदगी का सच शायरी स्टेटस कोट्स इन हिंदी 2022

Latest Bhid Me Akela Shayari Status With Images - Read Best बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in English And Share it On Facebook, Whatsapp And Instagram.

bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english

#1 - Top 10 Bhid Me Akela Shayari Status With Images 2022


अलफ़ाज़ तो हमारे लिखे पढ़ लेता था

एहसास वो हमारे कभी पढ़ ना पाया।



तीन चीज़ें कभी वापस नहीं आती,,

बोले गए अलफ़ाज़ गुज़रा हुआ वक़्त

टूटा हुआ भरोसा।


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


लफ्ज़… अलफ़ाज़… कागज़ या किताब…

कहाँ कहाँ रक्खें हम… यादों का हिसाब…..



काश तुम पढ़ लेते आँखों से अलफ़ाज़

जुबां के मोहताज तो पराये होते हैं।


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


इज़हार-ए-इश्क़ की खातिर कई अलफ़ाज़ सोचे थे,

खुद ही को भूल बैठे हैं हम, जब तुम सामने आये!!


#2 - Best बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं


सच जानना है तो आसुंओ से पूछो,

अलफ़ाज़ अक्सर गुमराह कर देते हैं।



प्यार मोहब्बत आशिक़ी

ये बस अलफ़ाज़ थे,

मगर जब तुम मिले तब इन

अल्फ़ाज़ों के मायने मिले।


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


हम तो बहुत खास थे ये उनके

“अलफ़ाज़ थे”.



वो कहते हैं, कुछ बोलते नहीं तुम,

अब कैसे बताएं उन्हें, जज़्बात तो हैं

मगर अलफ़ाज़ नहीं।


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


है अनकहा बहुत कुछ, तेरे और मेरे बीच,

मै तेरी ख़ामोशी का, अलफ़ाज़ बनना चाहता हूँ।


#3 - अकेले रहने की आदत शायरी


सभी तारीफ करते हैं मेरे तहरीर की लेकिन😇

कभी कोई नहीं सुनता मेरे अल्फ़ाजो की सिसकियाँ



सिमट गया मेरा प्यार भी चंद अल्फाजों में,

जब उसने कहा मोहब्ब्त तो है पर साहब तुमसे नही.!


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


तुम जा तो चुकी हो मेरी दुनिया से,

लेकिन मेरे अल्फाजों में जिंदा आज भी।



दिल करता है तुझे सीने से लगा लूं,

मगर वो तेरे कड़वे अल्फाज़ याद आते हैं।


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


क्या लिखूं और कितना लिखूं,

दिल के एहसासों को,,

ज़िन्दगी भरी पड़ी है सब,

अनकहे अल्फाजों से.।।


#4 - दुनिया की भीड़ शायरी


दोस्तों से रिश्ता रखा करो

जनाब, तबीयत मस्त रहेगी…

ये वो हकीम हैं, जो अल्फाज़ से

इलाज कर दिया करते हैं।



यूं तो अल्फाज़ नही हैं मेरे पास महफ़िल में सुनाने को,

खैर कोई बात नही जख्मों को ही कुरेद देता हूं…


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


अल्फाज़ दर अल्फ़ाज़

लफ्ज़ दर लफ़्ज़

मोहब्बत ऐसी हुई कुछ

सब के गया वो शख़्स..



सारी रात तुम्हारी यादों में

खत लिखते रहे….

पर दर्द ही इतना था कि अश्क बहते रहे

और अल्फाज़ मिटते रहे..!!


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


डाल दो अपनी दुआ के चंद

अल्फाज़ मेरी झोली में….

क्या पता, आपके लब

हिलें और मेरी ज़िन्दगी सवर जाए


#5 - भीड़ पर शेर


कैसे बयान करूं अल्फाज़ नही हैं,

दर्द का मेरे तुझे एहसास नही है,

पूछते हो मुझसे क्या दर्द है..?

मुझे दर्द ये है कि तू मेरे पास नही है।



ये जो खामोश से अल्फाज़ लिखते हैं ना,

पढ़ना कभी ध्यान से चीखते कमाल है


bhid me akela shayari status with images, बहुत भीड हो गई है लोगों के दिलों में इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते हैं, अकेले रहने की आदत शायरी, दुनिया की भीड़ शायरी, भीड़ पर शेर, अकेलापन शायरी हिंदी, मकसद शायरी, अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी, भीड़ से अलग in english


वक्त बदला है, हक़ीक़त नही,

अल्फाज़ हैं नए, मै हूं वही।



लिखा करूंगा मै ज़िन्दगी भर अपनी कही अनकही बातों को,

पर क्या तुम समझ पाओगे उन अल्फाजों को.?


-


वो साफ साफ अल्फाजों में जुदाई मांग रहा था,

फिर भी उसकी आंखों से रजा क्यों न मिला !!


#6 - अकेलापन शायरी हिंदी


वो सबूत मांगते हैं, कि हमें उनसे इश्क कितना है,

हमारे पास भी अल्फाज़ नही, इसलिए चुप रहना पड़ता है।



कुछ एहसास कुछ जज़्बात

कुछ बिखरे अल्फ़ाज़ लिखता हूं,

जो खो गया है तुम में, मुझ में कहीं

मै वो खोए हुए अल्फाज़ लिखता हूं।


-


दबे अल्फाजों को आवाज देकर,

मानो खुद को खुद से रिहा कर आए हम.



यूं जाया ना कर अपने अल्फाजों को इस नाचीज़ की खातिर,

बचाकर रख कतार यहां लंबी है हूरों की।


-


कुछ बातें यूं दिल में रह गईं,

जो अल्फाज़ बयां ना कर पाए,

वो बहती आंखें कह गई।


#7 - मकसद शायरी


जब तक अल्फाज़ मेरे महसूस ना होंगे,

मोहब्बत के परिंदे रूह कैसे छू पाएंगे।



सिमट गई मेरे ग़ज़ल भी चंद अल्फाजों में,

जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नही।


-


मेरे कड़वे अल्फाज़ चुभ गए उनको,

मगर मेरा साफ दिल नही नजर आया।



मै उन पन्नों में एहसास लिखते रहा,

वो उन पन्नों में अल्फाज़ पढ़ते रहे।


-


अल्फाजों में जो हम बयां करना छोड़ दिए

खामोशियों को तो जैसे वो समझना ही छोड़ दिए।


#8 - अपने पैरों पर खड़ा होना शायरी


दिल चीर जाते हैं… ये अल्फाज़ उनके

वो जब कहते हैं हम कभी एक नही हो सकते।



महसूस करोगे तो गोरे कागज पर भी नजर आएंगे,

हम अल्फाज़ हैं, तेरे हर लफ्ज़ में ढल जायेंगे…


-


जब सन्नाटा फैल जाए तो समझ लेना,

कि अल्फाज़ गहरे उतरे हैं दिल में !!



चलो मान लिया, यूं तो मेरी तकदीर के वो नुक्ते हैं….

मसला इन अल्फाजों का नही, वो मेरी हां पर अड़े हैं।


-


अल्फाज़ लिए फिरता हूं एहसासों की मंडी में,

कागज काले करता हूं इंसानों की बस्ती में।


#9 - भीड़ से अलग in English


कुछ एहसास खामोश अल्फाजों की तरह होते हैं,

जो बस यूं ही सुलगते और बुझते रहते हैं.!!



इजहार ए इश्क तुम ही करो तो बेहतर होगा……

तुम्हें देखकर मेरे अल्फाज़ लड़खड़ाने लगते हैं….


-


आज अल्फाज़ नही मिल रहे थे,

दर्द लिख दिया हूं, महसूस कीजिए।



ये तो शौक है मेरा दर्द लफ्जों में बयां करने का,

नादान लोग हमें यूं ही शायर समझ लेते हैं।


-


दोस्त बेशक एक हो लेकिन ऐसा हो,

जो अल्फाज़ से ज्यादा खामोशी समझे।


#10 - लोग भूल जाते है शायरी


ना खुशी खरीद पाता हूं ना गम बेच पाता हूं,

फिर भी मै ना जाने क्यों हर रोज़ कमाने जाता हूं।



ज़िन्दगी में अब कोई ख्वाहिश नही रही…

जो थी वो कौन सी पूरी हो गई..!!


-


नही रही शिकायत अब मुझे तेरी नजरअंदाजी से,

तू बाकियों को खुश रख हम तन्हा ही अच्छे हैं।



गुनाह कुछ ऐसे हुए हमसे अनजाने में,

फूलों का कत्ल कर बैठे पत्थरों को मनाने में।


-


ऐसी ग़ज़ब की ख़ामोशी देखी नही कहीं,

दोनों यही पे हैं, मगर कोन गया पता नहीं।


Related Posts :

199+ भीड़ में अकेला जिंदगी का सच शायरी स्टेटस कोट्स इन हिंदी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। अगर आप हर रोज नए स्टेटस, शायरी और कोट्स पढ़ने के लिए  DevisinhSodha.com ब्लॉग पर विसिट करते रहिए।

No comments:

Post a Comment