श्री पार्शवनाथ चालीसा | Complete Parasnath Chalisa Lyrics in Hindi/English

सम्पूर्ण पार्शवनाथ चालीसा - सबसे पहले आप सब पार्शवनाथ भक्तो को प्रणाम। इस पोस्ट मे पढ़िये Parasnath Chalisa Lyrics in Hindi And English और Share कीजिये अपने मित्रो और परिवारजनो ले साथ।


पार्शवनाथ चालीसा, parasnath chalisa lyrics in hindi, parasnath chalisa lyrics in english, महावीर भगवान का चालीसा, आदिनाथ भगवान का चालीसा, णमोकार चालीसा, जैन चालीसा संग्रह pdf, चंद्रप्रभु भगवान का चालीसा, मुनिसुव्रतनाथ चालीसा, मेरी भावना, पारसनाथ स्त्रोत लिरिक्स


पार्शवनाथ चालीसा लिरिक्स हिन्दी मे


॥दोहा ॥

शीश नवा अरिहंत को, सिद्धन करूँ प्रणाम।

उपाध्याय आचार्य का ले, सुखकारी नाम॥


सर्व साधु और सरस्वती, जिन मन्दिर सुरखकार।

अहिच्छत्र और पार्श्व को, मन मन्दिर में धार॥


॥ चौपाई ॥

पार्श्वनाथ जगत हितकारी,

हो स्वामी तुम व्रत के धारी।


सुर नर असुर करें तुम सेवा,

तुम ही सब देवन के देवा।


तुमसे करम शत्रु भी हारा,

तुम कीना जग का निस्तारा।


अश्वसेन के राजदुलारे,

वामा की आखों के तारे।


काशी जी के स्वामि कहाये,

सारी परजा मौज उड़ाये।


इक दिन सब मित्रों को लेके,

सैर करने को वन में पहुंचे।


हाथी पर कसकर अम्बारी,

इक जंगल में गई सवारी।


एक तपस्वी देख वहां पर,

उससे बोले वचन सुनाकर।


तपसी ! तुम क्यों पाप कमाते,

इस लक्कड़ में जीव जलाते।


तपसी तभी कुदाल उठाया,

उस लक्कड़ को चीर गिराया।


निकले नाग-नागनी कारे,

मरने के थे निकट बिचारे।


रहम प्रभू के दिल में आया,

तभी मन्त्र नवकार सुनाया।


मर कर वो पाताल सिधाये,

पद्मावति धरणेन्द्र कहाये॥


तपसी मर कर देव कहाया,

नाम कमठ ग्रन्थों में गाया।


एक समय श्री पारस स्वामी,

राज छोड़ कर वन की ठानी।


तप करते थे ध्यान लगाये,

इकदिन कमठ वहां पर आये।


फौरन ही प्रभु को पहिचाना,

बदला लेना दिल में ठाना।


बहुत अधिक बारिश बरसाई,

बादल गरजे बिजली गिराई।


बहुत अधिक पत्थर बरसाये,

स्वामी तन को नहीं हिलाये।


पद्मावति धरणेन्द्र भी आये,

प्रभु की सेवा में चित लाये।


पद्मावती ने फन फैलाया,

उस पर स्वामी को बैठाया।


धरणेन्द्र ने फन फैलाया,

प्रभु के सर पर छत्र बनाया।


कर्मनाश प्रभु ज्ञान उपाया,

समोशरण देवेन्द्र रचाया।


यही जगह अहिच्छत्र कहाये,

पात्र केशरी जहां पर आये।


शिष्य पांच सौं संग विद्वाना,

जिनको जाने सकल जहाना।


पार्श्वनाथ का दर्शन पाया,

सबने जैन धरम अपनाया।


अहिच्छत्र थी सन्दर नगरी,

जहां सूखी थी परजा सगरी।


राजा श्री वसुपाल कहाये,

वो इक जिन मन्दिर बनवाये।


प्रतिमा पर पालिश करवाया,

फौरन इक मिस्त्री बुलवाया।


वह मिस्तरी मांस खाता था,

इससे पालिश गिर जाता था।


मुनि ने उसे उपाय बताया,

पारस दर्शन व्रत दिलवाया।


मिस्त्री ने व्रत पालन कीना,

फौरन ही रंग चढ़ा नवीना।


गदर सतावन का किस्सा है,

इक माली को यो लिक्खा है।


माली एक प्रतिमा को लेकर,

झट छुप गया कुँए के अन्दर।


उस पानी का अतिशय भारी,

दूर होय सारी बीमारी।


जो अहिच्छत्र हृदय से ध्यावे,

सो नर उत्तम पदवी पावे।


पुत्र संपदा की बढ़ती हों,

पापों की इक दम घटती हो।


है तहसील आंवला भारी,

स्टेशन पर मिले सवारी।


रामनगर एक ग्राम बराबर,

जिसको जाने सब नारी नर।


चालीसे को ‘चन्द्र’ बनाये,

हाथ जोड़कर शीश नवाये।


॥ सोरठा ॥

नित चालीसहिं बार, पाठ करे चालीस दिन।

खेय सुगन्ध अपार, अहिच्छत्र में आय के।

होय कुबेर समान, जन्म दरिद्री होय जो।

जिसके नहिं सन्तान, नाम वंश जग में चले॥


जाप – ॐ ह्रीं अर्हं श्री पार्श्वनाथाय नमः


Parasnath Chalisa Lyrics in English


॥dohā॥

śīśa navā arihaṃta ko, siddhana karū~ praṇāma।

upādhyāya ācārya kā le, sukhakārī nāma॥


sarva sādhu aura sarasvatī, jina mandira surakhakāra।

ahicchatra aura pārśva ko, mana mandira meṃ dhāra॥


॥caupāī॥

pārśvanātha jagata hitakārī,

ho svāmī tuma vrata ke dhārī।


sura nara asura kareṃ tuma sevā,

tuma hī saba devana ke devā।


tumase karama śatru bhī hārā,

tuma kīnā jaga kā nistārā।


aśvasena ke rājadulāre,

vāmā kī ākhoṃ ke tāre।


kāśī jī ke svāmi kahāye,

sārī parajā mauja uḍa़āye।


ika dina saba mitroṃ ko leke,

saira karane ko vana meṃ pahuṃce।


hāthī para kasakara ambārī,

ika jaṃgala meṃ gaī savārī।


eka tapasvī dekha vahāṃ para,

usase bole vacana sunākara।


tapasī ! tuma kyoṃ pāpa kamāte,

isa lakkaḍa़ meṃ jīva jalāte।


tapasī tabhī kudāla uṭhāyā,

usa lakkaḍa़ ko cīra girāyā।


nikale nāga-nāganī kāre,

marane ke the nikaṭa bicāre।


rahama prabhū ke dila meṃ āyā,

tabhī mantra navakāra sunāyā।


mara kara vo pātāla sidhāye,

padmāvati dharaṇendra kahāye॥


tapasī mara kara deva kahāyā,

nāma kamaṭha granthoṃ meṃ gāyā।


eka samaya śrī pārasa svāmī,

rāja choḍa़ kara vana kī ṭhānī।


tapa karate the dhyāna lagāye,

ikadina kamaṭha vahāṃ para āye।


phaurana hī prabhu ko pahicānā,

badalā lenā dila meṃ ṭhānā।


bahuta adhika bāriśa barasāī,

bādala garaje bijalī girāī।


bahuta adhika patthara barasāye,

svāmī tana ko nahīṃ hilāye।


padmāvati dharaṇendra bhī āye,

prabhu kī sevā meṃ cita lāye।


padmāvatī ne phana phailāyā,

usa para svāmī ko baiṭhāyā।


dharaṇendra ne phana phailāyā,

prabhu ke sara para chatra banāyā।


karmanāśa prabhu jñāna upāyā,

samośaraṇa devendra racāyā।


yahī jagaha ahicchatra kahāye,

pātra keśarī jahāṃ para āye।


śiṣya pāṃca sauṃ saṃga vidvānā,

jinako jāne sakala jahānā।


pārśvanātha kā darśana pāyā,

sabane jaina dharama apanāyā।


ahicchatra thī sandara nagarī,

jahāṃ sūkhī thī parajā sagarī।


rājā śrī vasupāla kahāye,

vo ika jina mandira banavāye।


pratimā para pāliśa karavāyā,

phaurana ika mistrī bulavāyā।


vaha mistarī māṃsa khātā thā,

isase pāliśa gira jātā thā।


muni ne use upāya batāyā,

pārasa darśana vrata dilavāyā।


mistrī ne vrata pālana kīnā,

phaurana hī raṃga caḍha़ā navīnā।


gadara satāvana kā kissā hai,

ika mālī ko yo likkhā hai।


mālī eka pratimā ko lekara,

jhaṭa chupa gayā ku~e ke andara।


usa pānī kā atiśaya bhārī,

dūra hoya sārī bīmārī।


jo ahicchatra hṛdaya se dhyāve,

so nara uttama padavī pāve।


putra saṃpadā kī baḍha़tī hoṃ,

pāpoṃ kī ika dama ghaṭatī ho।


hai tahasīla āṃvalā bhārī,

sṭeśana para mile savārī।


rāmanagara eka grāma barābara,

jisako jāne saba nārī nara।


cālīse ko ‘candra’ banāye,

hātha joḍa़kara śīśa navāye।


॥ soraṭhā ॥

nita cālīsahiṃ bāra, pāṭha kare cālīsa dina।

kheya sugandha apāra, ahicchatra meṃ āya ke।

hoya kubera samāna, janma daridrī hoya jo।

jisake nahiṃ santāna, nāma vaṃśa jaga meṃ cale॥


jāpa:– oṃ hrīṃ arhaṃ śrī pārśvanāthāya namaḥ


Related Posts :

श्री पार्शवनाथ चालीसा | Complete Parasnath Chalisa Lyrics in Hindi/English इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। अगर आप इसी तरह की धर्म और आध्यामिक पोस्ट पढ़ना पसंद करते है तो हमारे ब्लॉग पर विसिट करते रहिए।

No comments:

Post a Comment

पैसे कमाने की वेबसाइट 2023 | 17 Real Genuine Websites For Earn Money Online in India